आधार कार्ड से मोबाइल नंबर कैसे जोड़े

Spread the love

                                अपने मोबाइल नंबर को आधार कार्ड से जोड़ने का तरीका

आपके आधार से एक मोबाइल नंबर का जुड़ा होना जरूरी है। अपने मोबाइल नंबर को आधार से इसलिए जोड़ना चाहिए क्योंकि सभी सुरक्षित ऑनलाइन ऑथेंटिकेशन, आपके आधार कार्ड के साथ रजिस्टर्ड नंबर पर भेजे जाने वाले OTP के माध्यम से होता है।

अपने आधार कार्ड में अपने डेमोग्राफिक या जनसांख्यिकीय विवरणों को अपडेट करना बिलकुल आसान हो जाता है यदि आपने नामांकन के समय अपने मोबाइल नंबर का उल्लेख किया हो। ऐसे मामलों में प्रक्रिया को ऑनलाइन माध्यम से पूरा किया जा सकता है।

लेकिन यदि आपने नामांकन के समय अपना मोबाइल नंबर नहीं दिया था या यदि आपका मोबाइल नंबर बदल गया है तो आप SSUP (सेल्फ सर्विस अपडेट पोर्टल) पोर्टल के माध्यम से अपना मोबाइल नंबर जोड़ नहीं पाएंगे।

ऐसी परिस्थिति में, आइए देखते हैं आप क्या कर सकते हैं।

अपने मोबाइल नंबर या ईमेल आईडी को अपने आधार कार्ड से जोड़ने के लिए स्टेप्स

अपने मोबाइल नंबर को अपने आधार से जोड़ने या मोबाइल नंबर को बदलने से जुड़े स्टेप्स निम्नलिखित हैं:

  • एक स्थायी नामांकन केंद्र में जाएं। आप UIDAI के ‘Locate an Enrolment/Update Centre’ (एक नामांकन / अपडेट केंद्र का पता लगाएं) वेबपेज के माध्यम से अपने पास के एक स्थायी नामांकन केंद्र का पता लगा सकते हैं। निम्नलिखित वेबपेज पर जाएं: “https://appointments.uidai.gov.in/easearch.aspx
  • आपको नामांकन केंद्र में एक ऑपरेटर के पास एक अनुरोध करना पड़ेगा।
  • ऑपरेटर, आवेदन फॉर्म भरेगा।
  • यदि दस्तावेजों को सत्यापित करने की जरूरत हो तो सत्यापन का काम, UIDAI के द्वारा नियुक्त किए गए एक वेरिफायर या सत्यापनकर्ता, नामांकन या अपडेट केंद्र में मौजूद रजिस्ट्रारों के द्वारा किया जाएगा।
  • उसके बाद ऑपरेटर, क्लाइंट सॉफ्टवेयर में विवरणों को दर्ज करेगा।
  • उसके बाद आपके बायोमेट्रिक विवरणों का सत्यापन किया जाएगा।
  • उसके बाद ऑपरेटर और उनके सुपरवाइजर के द्वारा इसकी पुष्टि की जाएगी।
  • आपको एक एक्नोलेजमेंट रिसिप्ट यानी पावती रसीद मिलेगा। इस रसीद में अपडेट रिक्वेस्ट नंबर (URN) होगा। आप इस नंबर का इस्तेमाल करके अपने आधार को ट्रैक कर सकते हैं।

जानकारी को अपडेट करने में आपकी मदद करने के 3 तरीके हैं जो निम्नलिखित हैं:

  1. अपडेट क्लाइंट स्टैण्डर्ड
  • फील्ड्स जिन्हें अपडेट किया जा सकता हैस्थानीय भाषा सहित सभी बायोमेट्रिक और डेमोग्राफिक फील्ड्स।
  • पहचान का ऑथेंटिकेशनबायोमेट्रिक जांच।
  • दस्तावेज का सत्यापन:
    • दस्तावेज के सत्यापन की आवश्यकता वाले फील्ड्स का सत्यापन किया जाएगा।
    • यह सत्यापन, UIDAI के द्वारा नियुक्त किए गए एक सत्यापनकर्ता, नामांकन या अपडेट केंद्र में मौजूद रजिस्ट्रारों द्वारा किया जाता है।
    • सत्यापन का काम, DDSVP समिति के सुझावों द्वारा तैयार किए गए दिशानिर्देशों के अनुसार किया जाएगा।
  • फॉर्म भरना और एक्नोलेजमेंट या पावती:
    • अपडेट क्लाइंट पर ऑपरेटर द्वारा एक फॉर्म को भरा जाएगा और एक अपडेट के लिए प्रत्येक अनुरोध के लिए एक बायोमेट्रिक हस्ताक्षर उपलब्ध कराया जाएगा।
    • आपको URN नंबर के साथ एक एक्नोलेजमेंट रिसिप्ट या पावती रसीद मिलेगा जिसका इस्तेमाल करके आप अपने आधार को ट्रैक कर सकते हैं।
  1. अपडेट क्लाइंट लाइट (UCL)
  • फील्ड्स जिन्हें अपडेट किया जा सकता हैसभी डेमोग्राफिक फील्ड्स, स्थानीय भाषा, और आपका फोटो।
  • पहचान का ऑथेंटिकेशनबायोमेट्रिक ऑथेंटिकेशन।
  • दस्तावेज का सत्य्पन:
    • दस्तावेजों का सत्यापन उन फील्डों के लिए किया जाएगा जिनके लिए सत्यापन करना जरूरी है।
    • यह काम, एक सत्यापनकर्ता द्वारा किया जाएगा जिसकी नियुक्ति UIDAI द्वारा किया जाता है। इसे नामांकन या अपडेट केंद्र में मौजूद रजिस्ट्रारों द्वारा भी किया जा सकता है।
    • सभी सत्यापन, DDSVP समिति के सुझावों के अनुसार किया जाएगा।
  • एक्नोलेजमेंट या पावती
    • अपडेट क्लाइंट पर ऑपरेटर द्वारा एक फॉर्म भरा जाएगा और सभी अपडेट्स में ऑपरेटर की तरफ से बायोमेट्रिक हस्ताक्षर भी शामिल होंगे।
    • यह काम होने के बाद, आपको एक एक्नोलेजमेंट रिसिप्ट या पावती रसीद मिलेगा। इस रसीद में URN नंबर होता है जिसका इस्तेमाल करके आप अपने आधार को ट्रैक कर सकते हैं।
  1. AUA (ऑथेंटिकेशन यूजर एजेंसी) के उपस्थिति स्थल के माध्यम से अपडेट करना
  • फील्ड्स जिन्हें अपडेट किया जा सकता हैडेमोग्राफिक फील्ड्स।
  • पहचान सम्बन्धी ऑथेंटिकेशनबायोमेट्रिक ऑथेंटिकेशन। लेकिन, UIDAI, ऑथेंटिकेशन के अन्य साधनों का भी इस्तेमाल कर सकता है। इसमें आपके मोबाइल नंबर में एक OTP भेजना भी शामिल हो सकता है।
  • दस्तावेज का सत्यापनरजिस्ट्रार के सत्यापन के आधार पर, दस्तावेजों को UIDAI के द्वारा स्वीकार किया जाएगा।
  • एक्नोलेजमेंट या पावती और फॉर्म भरना
    • यह काम, रजिस्ट्रार के ऑपरेटर के द्वारा एक बायोमेट्रिक ऑथेंटिकेशन फीचर (माइक्रो-एटीएम) वाले उपकरण में किया जाएगा।
    • एक्नोलेजमेंट रिसिप्ट या पावती रसीद एक प्रिंट आउट हो सकता है या अनुरोध के प्रकार के आधार पर एक SMS या ईमेल के रूप में हो सकता है। उदाहरण के लिए, मोबाइल फोन नंबर को अपडेट करने के लिए किए गए अनुरोध के कारण आपके मोबाइल पर SMS के माध्यम से URN भेजा जा सकता है।
    • अधिक जानकारी के लिए, आप विवरणों को अपडेट करने के बारे में UIDAI के निम्नलिखित वेबपेज में जा सकते हैं: https://uidai.gov.in/my-aadhaar/about-your-aadhaar/updating-data-on-aadhaar.html.

अपने मोबाइल नंबर को अपने आधार कार्ड से जोड़ने से, भविष्य में अन्य विवरणों को जोड़ना या बदलना बेहद आसान हो जाता है।

Leave a Reply

Your email address will not be published.